Chambiyali.com

चम्बे रा इतिहास

बड़े पैल्ले री गल्ल है, इक राजा थिय्या जिसेरा नां राजा मारु थिय्या। से कोइ 500 अ०ड० (500 AD) रा चम्बा जिले रे भरमौर नां रे इलाके अन्दर राज करदा थिया। राजा मारु का बाद, राजा साहिल बरमन चम्बा जिले अन्दर राज लगेया करणा ते तिनिए अपणी राजधानी भरमौर का चम्बे जो पुजाइ दिति। तिसेरी इक कुड़ी थी, जिसेरा नां चंपाबती थिय्या। तिसेरे ई नां पर चम्बे रा नां पेरा है। 500 AD का लेइ करी सन 1948 ताँई चम्बे अन्दर 67 राज्जेयाँ ने राज कित्ता। होर ता होर, चम्बे अन्दर अंगरेजाँ ने बी राज कित्तेया जेड़ा कोइ 98 साल्लां ताँई चलदा रेह्या, सन 1846 का 1948 ताँई। चम्बे अन्दर मते सारे मंदर अते पूजा-पाठ करणे ताँई मती सारी जघा बणेरियाँ हिन। इत्ते ता किछ्छ त्यार इदेह् बी हिन, जेड़े सिरफ़ चम्बे अन्दर ई मनाए जान्दे, होरथी कुते बी नी, जिय्याँ जे - मिंजराँ होई गेइय्याँ, सुह्ई रा मेळा होई गेया। एह् त्यार मते रोजां ताँई चलदे रैह्न्दे (कोई ४ का ७ रोजां ताँई)। चम्बे अन्दर मते सारे कलाकार बी हिन। चम्बे रा रुमाल, चम्बे री चप्पल, चम्बे री चुख (पिपळी रा अचार) एह् सब इत्ते री मस्हूर चीज्जाँ हिन।

चम्बा इक छोटा जणा ग्राँ है, जिनिए अपणे इतिहास अन्दर मते सारे उतार चढ़ाब दिख्खेरे हिन। मते राज्जेयाँ ने इत्ते राज कित्ता, नेक-बनेके बदलाव बी कित्ते। अपण फिरी बी चम्बे जिले ने अपणी गुणबत्ता, पबित्तरता अते पैह्चाण जो तदेह्या रा तदेह्या ई बणाई करी रख्खेया। सायद एह् ई इसेरी खासियत है जिसेरी वझा कने इस जिले ने परदेस अनदर अपणी गरिमा जो बणाई करी रख्खेरा है। हर साल्ला इस छोटी जणि जघा जो दिखणे ताँई लख्खाँई मह्णु देस-बिदेस का आन्दे ते इसेरी यादाँ जो अपणे कैमरेयाँ अन्दर बांद करी-करी अपणे कन्ने लेई जान्दे।